फ़रवरी 5, 2023

जब आनंद बख्शी के गाने पर मचा बवाल, गरीबी से जूझ रहे हीरो की स्टेक्स पर थी किस्मत; फिर उड़ गए डायरेक्टर की नींद…

जब आनंद बख्शी के गाने पर मचा बवाल, गरीबी से जूझ रहे हीरो की स्टेक्स पर थी किस्मत;  फिर उड़ गए डायरेक्टर की नींद...

जब आनंद बख्शी के गाने पर मचा बवाल, गरीबी से जूझ रहे हीरो की स्टेक्स पर थी किस्मत; फिर उड़ गए डायरेक्टर की नींद…

मुंबई: फिल्म समय से फिल्म निर्माता अनजाने में ही कोई न कोई ऐसी गलती कर जाती है जो बवाल की वजह से बन जाती है। 45 साल पहले आई फिल्म ‘धर्म वीर’ (धरम वीर) ने बॉक्स ऑफिस पर शानदार कामयबी हासिल की थी, लेकिन मनमोहन देसाई से एक ऐसी गलती हो गई जो देश की महिला अंग को नागवार गुजरी और विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया था। इससे भी बदतर होते देख डायरेक्टर की नींद उड़ गई। इस फिल्म में धर्मेंद्र (धर्मेंद्र), जीनत अमान (जीनत अमान), जितेंद्र, नीतू सिंह लीड रोल में थे। सदमे बवाल शुरू हुआ तो धर्मेंद्र घबरा गए, क्योंकि फिल्म से उनके सभी कुछ स्टेक लग गए थे।

मनमोहन देसाई की 4 बड़ी हिट फिल्मों में ‘धर्मवीर’ एक थी। इस फिल्म के गाने भी मेलोडियस थे, लेकिन जब भी इस फिल्म की चर्चा होती है तो इसके गाने को लेकर जबरदस्त विवाद याद आता है। यूं तो इस फिल्म में धर्मेंद्र-जीनत अमान (जीनत अमान) और जितेंद्र-नीतू सिंह की जोड़ी ने पर्दे पर धमाल मचा दिया था।

आनंद बख्शी के एक शब्द ने मचा दिया था बवाल
‘धरम वीर’ का म्यूजिक एल्बम जब रिलीज़ हुआ तो ऐसा हुकूमत मचा जिसकी कल्पना ना तो मनमोहन देसाई ने की थी ना ही गाना टाइट करने वाले मशहूर पत्रकार जाम बख्शी ने। दरअसल, फिल्म के एक गाने सातजूबे इस दुनिया में’ में एक शब्द पर महिला अंग को आपत्तिजनक था। गाने के दूसरे अंतरे में आनंद बख्शी साहब ने लिखा था ‘ये लड़की है या रेशम की डोर है, कितना गुस्सा है, कितना मुंहजोर है, खोलो न देना हंसके, रखना लगामके कस, मुश्किल से देखो लड़की हो घोड़ी’…. इसी बस शब्द पर तो महिलाएं आग बबूला हो गईं।

वापस लिखा और रिकॉर्ड किया गया गाना
महिला अंग ने लड़की की तुलना घोड़ी से करने पर बवाल काट दिया। धरना प्रदर्शन होने लगा। जब विरोध बढ़ता गया तो मनोज देसाई ने आनंद बख्शी से दूसरी लाइन को कहा और गाने को फिर से रिकॉर्ड विवरण से जारी किया। इस गाने को धर्मेंद्र, जितेंद्र और जीनत अमान पर फिल्माया गया और गाने को मोहम्मद रफी और मुकेश ने आवाज दी थी।

 

धर्मेंद्र के मुफलिसी डेरे थे
ये तो रहा गाने का किस्सा, इस फिल्म की शूटिंग के दौरान धर्मेंद्र के हालात बेहतर नहीं थे। मीडिया रिपोर्ट के माने तो धर्मेंद्र के पास भरपेट खाने के लिए भी पैसे नहीं थे। कभी बड़ापाव खाना खाते थे कभी होटल में कर्ज खाकर पेट भर भर लेते थे। एक दिन ‘धर्म वीर’ की शूटिंग से देर रात धर्मेंद्र लौटा तो तेज भूख के मारे हालत खराब थी। जिस होटल में कर्ज लेता था वह भी बंद हो गया। सुबह तक तबीयत खराब हो जाती है तो अस्पताल में भर्ती का विवरण तैयार हो जाता है तो डॉक्टर ने कहा कि जहां उन्हें दवा की जरूरत नहीं है।

ये भी पढ़ें-क्रिकेटर पर आईं मशहूर एक्ट्रेस का दिल, मां ने ज्योतिष से भी कर ली बात; फिर एक में रिश्ता टूट गया

 

‘धरम वीर’ फिल्म के हिट होते ही धर्मेंद्र की हालत भी खराब हो गई, इसके बाद उन्हें पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा। आज भी शान से जी रहे हैं।

टैग: धर्मेंद्र, मनोरंजन विशेष, जितेंद्र, नीतू सिंह, ज़ीनत अमान

Source link