Search for:
  • Home/
  • News/
  • ईरान द्वारा जब्त किए गए जहाज के चालक दल के 17 भारतीय सदस्यों में से केरल की एक महिला घर लौट आई

ईरान द्वारा जब्त किए गए जहाज के चालक दल के 17 भारतीय सदस्यों में से केरल की एक महिला घर लौट आई

नई दिल्ली: ईरान द्वारा जब्त किए गए इजराइल-संबद्ध मालवाहक जहाज के चालक दल के 17 भारतीय सदस्यों में से एकमात्र महिला को गुरुवार को रिहा कर दिया गया, और भारतीय पक्ष शेष नाविकों की भलाई सुनिश्चित करने के लिए ईरानी अधिकारियों के साथ काम कर रहा है।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, केरल के त्रिशूर से ताल्लुक रखने वाली एन टेसा जोसेफ तेहरान में भारतीय दूतावास और ईरानी सरकार के “संगठित प्रयासों” के माध्यम से मुक्त होने के बाद गुरुवार दोपहर कोचीन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए उड़ान भरी।

17 भारतीय कंटेनर जहाज एमएससी एरीज़ के 25 सदस्यीय चालक दल का हिस्सा थे, जिसे 13 अप्रैल को होर्मुज जलडमरूमध्य में ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (आईआरजीसी) की एक विशेष बल इकाई ने जब्त कर लिया था। ईरान के विदेश मंत्रालय ने इस सप्ताह कहा था समुद्री कानूनों का उल्लंघन करने पर मालवाहक जहाज़ को जब्त कर लिया गया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जयसवाल ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा कि भारतीय दूतावास ने “ईरानी अधिकारियों के समर्थन” से जोसेफ की भारत वापसी की सुविधा प्रदान की। उन्होंने कहा कि दूतावास शेष 16 भारतीय चालक दल के सदस्यों की भलाई सुनिश्चित करने के लिए ईरानी पक्ष के संपर्क में है।

जयसवाल ने क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी द्वारा कोचीन हवाई अड्डे पर जोसेफ का स्वागत करते हुए एक तस्वीर पोस्ट की।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि तेहरान में भारतीय दूतावास “मामले से अवगत है” और शेष 16 भारतीय चालक दल के सदस्यों के संपर्क में है, जो अच्छे स्वास्थ्य में हैं और भारत में अपने परिवार के सदस्यों के संपर्क में हैं।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने 14 अप्रैल को फोन पर बातचीत के दौरान अपने ईरानी समकक्ष होसैन अमीर-अब्दुल्लाहियन के साथ भारतीय नाविकों की रिहाई का मुद्दा उठाया था। जयशंकर ने चालक दल के सदस्यों की स्थिति के बारे में चिंता व्यक्त की और ईरान से सहायता का अनुरोध किया। आमिर-अब्दुल्लाहियन ने उस समय कहा था कि भारतीय अधिकारियों को भारतीय चालक दल के सदस्यों से मिलने की अनुमति दी जाएगी।

पुर्तगाली ध्वज वाले मालवाहक जहाज पर सवार भारतीय चालक दल के सदस्यों में जहाज का मालिक भी शामिल है। चालक दल में चार फिलिपिनो, दो पाकिस्तानी, एक रूसी और एक एस्टोनियाई भी हैं।

इटालियन-स्विस शिपिंग समूह एमएससी ने कहा है कि वह चालक दल की भलाई सुनिश्चित करने के लिए संबंधित अधिकारियों के साथ काम कर रहा है। यह जहाज लंदन स्थित ज़ोडियाक मैरीटाइम से जुड़ा है, जो इज़रायली अरबपति इयाल ओफ़र के ज़ोडियाक समूह का हिस्सा है।

इज़राइल-हमास संघर्ष की शुरुआत के बाद से, भारत ने भारतीय चालक दल के सदस्यों वाले जहाजों की सुरक्षा के लिए कई बार कार्रवाई की है, जिन्हें यमन के हौथी विद्रोहियों जैसे ईरान की प्रॉक्सी ताकतों द्वारा निशाना बनाया गया था।

पिछले हफ्ते, भारत ने एक एडवाइजरी जारी कर अपने नागरिकों से दोनों पक्षों के बीच तनाव बढ़ने के बाद ईरान या इज़राइल की यात्रा न करने का आग्रह किया था। इसने दोनों देशों में रहने वाले सभी भारतीय नागरिकों से “अत्यंत सावधानियां” बरतने को भी कहा।
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j
j4kkgi34ofo4j

Leave A Comment

All fields marked with an asterisk (*) are required